View english website... होम :: हमसे संपर्क करें :: साइटमैप
भा. कृ. अनु. प. - केन्द्रीय पक्षी अनुसंधान संस्थान
ICAR - CENTRAL AVIAN RESEARCH INSTITUTE
Please click to view website in English......
उपलब्ध सेवाएं
कंसल्टेंसी
इस संस्थान द्वारा सार्वजनिक तथा निजी-दोनों क्षे़त्रों के संगठनों के कुक्कुट पालकों, उध्यमियों तथा लाभार्थियों को कुक्कुट उत्पादन, प्रसंस्करण एवं विपणन के क्षेत्र में परामर्शी सेवाएँ प्रदान की जाती हैं।
और पढ़ें >>
विश्लेषणात्मक सेवाओं
इस संस्थान की पोषण विभाग की प्रयोगशालाएँ आधुनिक उपकरणों एवं साजो-समान से सुसज्जित हैं। कुक्कुट उद्योगों, सरकारी एजेंसियों तथा किसानों से प्राप्त विभिन्न आहार संघटकों तथा मिश्रित आहारों/सांद्रणों में...
और पढ़ें >>
प्रशिक्षण
इस संस्थान द्वारा कुक्कुट पालकों, उद्यमियों, बेरोजगार युवकों, रक्षा संगठनों के कार्मिकों एवं लाभार्थियों को कुक्कुट तथा बत्तख पालन पर अल्प अवधि का प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है। इस प्रशिक्षण को प्राप्त करने के लिए पहले...
और पढ़ें >>
संदेश
हमारे देश में रोजगार सृजन, ग्रामीण अर्थ-व्यवस्था में सुधार तथा पौषाणिक सुरक्षा प्रदान करने में कुक्कुट उत्पादन का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। यहाँ यह उल्लेख करना आवश्यक है कि भारत में पिछले चार दशकों के दौरान कुक्कुट क्षेत्र में तेजी से वृद्धि हुई है तथा यह विश्व में अण्डा उत्पादन में तीसरा सबसे बड़ा (67 बिलियन संख्या में) तथा कुक्कुट मांस उत्पादन में पाँचवा सबसे बड़ा़ (3.2 मिलियन टन) उत्पादक देश के रूप में उभरा है।


-डाॅ0 जगमोहन कटारिया
निदेशक
केन्द्रीय पक्षी अनुसंधान संस्थान इज्जतनगर, बरेली, उत्तर प्रदेश (02 नवम्बर,1979) तथा इसका क्षेत्रीय अनुसंधान केन्द्र, भुवनेश्वर (ओडि़सा) अपनी स्थापना के समय से ही देश में विविधीकृत कुक्कुट उत्पादन को बढ़ावा दे़ने के लिए अनुसंधान एवं विकास तथा प्रौद्योगिकीय सहायता प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। विविधीकृत कुक्कुट प्रजातियों जैसे-बटेर, टर्की, गिनी फाउल, देशी फाउल, बत्तख, मुर्गी की लेयर तथा ब्रायलर के उत्कृष्ट पक्षी धन के विकास एवं प्रचार तथा उनको आहार देने, प्रबंधन एवं स्वास्थ्य की देख-भाल के उन्नत तरीकों के पैकेज के साथ-साथ कुक्कुट प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी विकसित करने एवं निजी तथा सार्वजनिक दोनों क्षेत्रों के स्टॉकहोल्डरों को प्रमाणित प्रौद्योगिकियों को प्रसारित करने में संस्थान के अनुसंधान एवं विकास क्रियाकलापों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।
और पढ़ें >>
समाचार
और पढ़ें >>